पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत, जानें कैसे होता है ये और रोकथाम

पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत:-

पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत, जानें कैसे होता है ये और रोकथाम | tasticuler cancer
पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत, जानें कैसे होता है ये और रोकथाम

  • टेस्‍टीकुलर कैंसर टेस्टिस में होता है, जो अंडकोश के अंदर स्थित होता है
  • अंडकोष, प्रजनन के लिए पुरुष सेक्स हार्मोन और शुक्राणु का उत्पादन करते हैं।
  • अन्य प्रकार के कैंसर की तुलना में, टेस्‍टीकुलर कैंसर दुर्लभ है। 




टेस्‍टीकुलर कैंसर (वृषण कैंसर) टेस्टिस (वृषण) में होता है, जो अंडकोश के अंदर स्थित होता है, लिंग के नीचे की त्वचा का एक ढीला बैग। अंडकोष, प्रजनन के लिए पुरुष सेक्स हार्मोन और शुक्राणु का उत्पादन करते हैं। अन्य प्रकार के कैंसर की तुलना में, टेस्‍टीकुलर कैंसर दुर्लभ है। लेकिन 15 से 35 वर्ष की आयु के बीच पुरुषों में टेस्‍टीकुलर कैंसर ज्‍यादा देखने को मिलते हैं। हांलांकि, टेस्‍टीकुलर कैंसर उपचार योग्य है, तब भी जब कैंसर अंडकोष से परे फैल गया हो।

टेस्‍टीकुलर कैंसर 7 के लक्षण:-



  1. टेस्‍टीकुलर में एक गांठ या उसकी वृद्धि 
  2. अंडकोश में भारीपन 
  3. पेट या कमर में हल्‍का दर्द
  4. अंडकोष में तरल पदार्थ का अचानक संग्रह
  5. अंडकोष में दर्द या असुविधा होना 
  6. पुरुष स्तनों का बढ़ना या मुलायम होना 
  7. पीठ दर्द

टेस्‍टीकुलर कैंसर के कारण:-


यह स्पष्ट नहीं है कि ज्यादातर मामलों में टेस्‍टीकुलर कैंसर के कारण क्या होता है। डॉक्टरों को पता है कि टेस्‍टीकुलर कैंसर तब होता है जब एक अंडकोष में स्वस्थ कोशिकाएं बदल जाती हैं। स्वस्थ कोशिकाएं आपके शरीर को सामान्य रूप से कार्य करने के लिए एक क्रमबद्ध तरीके से बढ़ती और विभाजित करती हैं। लेकिन कभी-कभी कुछ कोशिकाएं असामान्यताएं विकसित करती हैं, जिससे यह वृद्धि नियंत्रण से बाहर हो जाती है - ये कैंसर कोशिकाएं तब भी विभाजित होती रहती हैं जब नई कोशिकाओं की आवश्यकता नहीं होती है। संचय कोशिकाएं अंडकोष में एक समूह बनाती हैं।

रोगाणु कोशिकाओं में लगभग सभी वृषण कैंसर शुरू होते हैं - अंडकोष में कोशिकाएं जो अपरिपक्व शुक्राणु पैदा करती हैं। रोगाणु कोशिकाएं असामान्य होने का कारण बनती हैं और कैंसर में विकसित नहीं होती हैं।
पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत, जानें कैसे होता है ये और रोकथाम
टेस्‍टीकुलर कैंसर के कारण
इसे भी पढ़ें : मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन हैं पुरुषों में थायराइड के संकेत, जानें इसके कारण और इलाज

टेस्‍टीकुलर कैंसर के जोखिम कारक:- 

परिवारिक इतिहास: यदि परिवार के किसी सदस्य को टेस्‍टीकुलर कैंसर हुआ है, तो आपके लिए ये एक जोखिम भरा हो सकता है।

उम्र: वृषण कैंसर किशोर और छोटे पुरुषों को प्रभावित करता है, विशेष रूप से 15 से 35 वर्ष की उम्र के बीच। हालांकि, यह किसी भी उम्र में हो सकता है।

रेस : अश्‍वेत पुरुषों की तुलना में श्‍वेत पुरुषों में वृषण कैंसर की संभावना अधिक होती है। अमेरिकंस में ये बीमारी बहुत ही आम है।

इसे भी पढ़ें : पुरुषों में थायराइड के प्रमुख पांच लक्षण

टेस्‍टीकुलर कैंसर से बचाव:- 

आमतौर पर टेस्‍टीकुलर कैंसर को रोकने का कोई तरीका नहीं है। कुछ डॉक्टर प्रारंभिक चरण में वृषण कैंसर की पहचान करने के लिए नियमित अंडकोष की स्व-जांच की सलाह देते हैं। लेकिन सभी डॉक्टर सहमत नहीं हैं। अपने डॉक्टर से वृषण स्व-परीक्षा पर चर्चा करें यदि आप इस बारे में श्‍योर नहीं हैं तो निश्चित रूप से आपको डॉक्‍टर की सलाह लेनी चाहिए।
पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत, जानें कैसे होता है ये और रोकथाम पुरुषों के टेस्टिकल्‍स में बदलाव टेस्‍टीकुलर कैंसर के हैं संकेत, जानें कैसे होता है ये और रोकथाम Reviewed by Dayhindi.com | All Hindi Infomation On dayhindi.com on January 15, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.